https://www.youtube.com/watch?v=DODIb-PN1o8 - An Overview +91-9914666697



सुनी थी सिर्फ हमने ग़ज़लों में जुदाई की बातें ;

तन्हा तो चाँद भी सितारों के बीच में है ;

जो सरूर है तेरी आँखों में ,वो बात कहां मयखाने मे

कम नहीं मेरी जिंदगी के लिए, चैन मिल जाये दो घडी के लिए,

हद से ज्यादा ख़ुशी पर ‘नज़र’ और हद से ज्यादा गम पर ‘नमक’ लगाती है।

आज उसकी एक बात ने मुझे मेरी गलती की यूँ सजा दी…

सुना है कि आपके दिदार के लिए तो आइना भी तरसता है…

Most important electricity behind a successfull karma is internal assurance and self perception. But currently men and women utilize it for personal greed. You can find numerous on the internet industry experts who provide valuable advice relating to this artwork.

खुदा पर भरोसे का हुनर सिख ले ऐ दोस्त सहारे जितने भी सच्चे हो साथ छोड़ ही जाते है

कल रात मैंने अपने सारे ग़म click here कमरे की दीवारों पे लिख डाले ,

अब तो बात नफरत की है , सोच तेरा क्या होगा…. .

“उनसे कहना की क़िस्मत पे ईतना नाज ना करे ,

जब हुई थी मोहब्बत तो लगा किसी अच्छे काम का है सिला।

अल्ज़फों से ज्यादा निगाहोसे बया होता है…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *